Hope, faith and belief.

 
तू है, कभी मुझमे, कभी किसी और में,
कभी बंजर में तो कभी घनघोर में, तू है !

तू है, शामिल मनुष्य के हर चिंतन में,
उनकी ख़ुशी में तनहा नाचने वाला भी, तू है !

तू है, कभी बचपन में , कभी जवानी में,
बुढ़ापे की निशानी और उबलते लहू की रवानी में, तू है !

तू है, बहार लाने वाला, फ़िज़ा महकाने वाला,
कुदरत के करिश्मों को आपदा से बचाने वाला, तू है !

तू है, हर उस माँ में, जिसने ममता को जन्मा है,
जीवन की धूप में नंगे पांव है जो तप रहा, हर उस बाप में भी, तू है !

तू है, हौसले की हर उस घड़ी में,
मानव को ईश्वर से है जो जोड़ती, उस कड़ी में, तू है !

तू है, वास्तविक रूप में ना सही, मेरी सोच में ,
तू है, मुझे मिला वरदान जो, उसका स्वरूप, तू है।

When it gets dark at night, there’s moon to make sure you remember that there is hope, that the sun isn’t lost, it’s there somewhere shining for you, showing you path via moon. There will a new morning tomorrow, there will light in your life, all you need to do is wait for the correct moment by keeping your faith alive. Hope, thats all it takes to go from darkness unto light. Hope, thats what drives the world, it’s there in me, it’s there in you, it’s there in people who are fighting there own battles within themselves. The world is based on and living around hope, the moment we give it up , we stop living.

Hold onto it.

Keep faith, hope for it and see how your belief turns into reality.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *