Jai Hind. Tribute to the soldiers and their families.

” सुनो सुनाऊ एक कहानी नयी,

रगों में बहते लहू की रवानी नयी,

 

 

एक जवान जहाँ माँ की गोद में सोने चला था,

दूसरा उसी के घर में किलकारियाँ ले रहा था ,

 

 

आँखों में सबके नमी थी ,

अनकही सी , पर एक कमी थी ,

 

 

जन्मा था फिर अपने ही घर में वो खुशियां लाने को ,

 रह गयी जो, उन कमियों का नामो निशान मिटने को ,

 

 

एक जवान चला था कफ़न ओढ़े जिस घर की चौखट से,

आया है फिर वहीँ वो सारी खुशियां लौटने को ,

 

 

गोद में लेते ही बेटे को, बीवी के ग़म भुला एक माँ मुस्काई ,

‘आपकी तरह ये भी देश की सेवा करे’ कह कर उसकी आंखे भर आयी,

 

 

सुनकर बहु के बोल, अब शहीद का बाप भी मुस्कुराने लगा,

‘जय हिन्द’ कह कर उसकी तस्वीर सीने से लगाने लगा | “

 

A description of emotions a family of a army personnel undergoes, the martyred personnel leaves behind a mixture of emotions and yet no one from the family ever steps up to question us or the politicians about their loss and they live silently with a belief and pride that they sacrificed their loved one for the nation and nothing can ever be more than this sacrifice.

This poem is dedicated to all the army people and it describes the emotions of a family who receive the news about the demise of their son on the same day when his child is born.

salute the real hero’s

Jai Hind

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *